Wednesday, 9 November 2016

Ayurvedic Dincharya - Ideal Daily Routine

Dinacharya - A Daily Routine List according to Ayurveda in Hindi

दिनचर्या और स्वास्थ्य 


जीने की कला मे आपकी दिनचर्या का विशेष प्रभाव है।

1. प्रातः जल्दी उठना - सवेरे जल्दी उठने से स्वास्थ्य और आयु की वर्धदि होती है।

2. शौच कर्म - उत्तम स्वास्थ्य के लिए यह कर्म दिन मे दो बार प्रातः व सायंकाल अवश्य करना चाहिए।

3. प्रातः भ्रमण से शरीर की बाहरी और भीतरी सफाई होती है, इसी प्रकार टहलना आराम भी है और कसरत भी।

4. भोजन के सम्बन्ध मे निम्न बातो पर अवश्य ध्यान दे :

> सदैव भोजन अमय पर ही करना चाहिए। अनियमित समय पर भोजन करना स्वास्थ्य के प्रतिकूल है।

> सदा संतुलित भोजन करे। अधिक गरिष्ठ पदार्थो का सेवन स्वास्थ्य के लिय हानिकारक भी हो सकता है।

> भूख से सदैव ही थोड़ा कम भोजन करे।

> भोजन मे जहा तक संभव हो हरी सब्जियां एवं दालो का प्रयोग करे। लाल मिर्च से बचे। वनस्पति घी क बदले थोड़ा शुद्ध घी का प्रयोग करे अथवा बगैर घी के ही भोजन करे।

> तले हुए भोजन देर से पचते है, इनसे बचिए।

> भोजन मे मांस, मछली, अन्डो का प्रयोग मत कीजिए, ये पदार्थ उत्तेजना फेलाते है, इनकी तासीर गर्म होती है तथा सात्विक भोजन की ओर अग्रसर हो।

> गर्म दूध, चाय य कॉफी पीकर तुरंत मत सोइए।

0 comments:

Post a Comment

Followers

Powered by Blogger.

अमूल्य कथन

1 Amla a day = No Doctor
1 Lemon a day = No Fat
3 liters of Water per day = No Diseases
5 Tulsi Leafs a day = No Cancer
1 Cup milk a day = No bone Problem

Popular Posts